Posts

Showing posts from July, 2017

हिंदी शायरी

Image
ज़िन्दगी के तीन एहम पहलुओ पे मेरे द्वारा लिखे गए चंद शब्द, उम्मीद करता हु आपको पसंद आएंगे |

बचपन
छूट गया वो सब जो हमारा अपना था , वो वक़्त नहीं एक सुन्हेरा सपना था | जब सुकून की नींद खुली छत पे भी आती थी, बीत गया वो पल जब नाम हमारा बच्चा था |

मोहब्बत
माथे पे तेरे शिकन भी मुझको खलती है , देख तेरी ढलती उम्र, साँसे मेरी थमती है | मोहब्बत किसी और से क्या करू मै माँ, दिल मेरा मुझमे, पर धड़कन तुझमे बस्ती है |

ज़िन्दगी 
बयाँ इसको कर पाना आसान नहीं है, दिल है धडकता पर जिंदा नहीं है | बहती जाए दरिया में कश्ती जो , नाम उस कश्ती का ज़िन्दगी नहीं है |
-उमंग

खलिश

Image
साटन के पर्दे पडे,फर्शलगतीकांचकीबनी | देओदारके पलंग बने,रेशमी उनपे चादर चढ़ी | मनोरंजन के साधन बडे,मेहेंगे कपड़ो से अलमारी लदी|
हालातो से डट कर लडे, सब रिश्तों की कुर्बानी लगी | माँ बाप पीछे छूटे, आसान थी ये राह नहीं | अनेक प्रयत्न जब हम करे , हुई तब ये कोठी खड़ी |
हर गली थे कोठी के चर्चे , उस ग़ाव थी वो इमारत नयी | सीना ताने हम चले, ऊची और हमारी नाक हुई | लड्डू मन भीतर फूटे, सोचा पाए हम मुकाम सभी |
गाँव बसे कुछ सेठ नए,हुई और कोठियां खड़ी | चर्चे जब उनके बढे , दिल मे एक खलिश जगी | गाँव के जब वो मुखिया बने, साख तब हमारी घटी |
जोर लगा कर हम भिडे, हार थी स्वीकार नहीं | सब शास्त्र हमारे लगे, खूब लम्बी वो जंग चली | पानी भाति रुपये बहे , पर परिणाम में हमे जीत मिली |
गाँव छोड़ जब वे भागे, राहत भरी तब सांस ली | सुकून के कुछ पल मिले,चाहत आखिर पूरी हुई | दिल में फिर कुछ दर्द उठे,